हिंदी फ्लिमों में सबूत के तौर पर होता था इस्तेमाल यह गैजेट | WhatYouRemind

दोस्तों, 1980s में Sony Walkman और aiwa walkman कैसेट प्लेयर मार्किट में बड़े नाम थे और आज मैं आपको जिस गैजेट के बारे में बताने जा रहा हूं इसे आपने हिंदी फिल्मों के कई सीन  में सबूत के तौर पर देखा होगा | इस गैज़ेट का आविष्कार सोनी कंपनी के को फाउंडर के लिए किया गया था और इसे आज हम "वॉकमैन" के नाम से जानते हैं | वैसे तो आज ही है गैजेट हमारे बीच देखने को कम ही मिलता है | लेकिन जब यह नया नया बाजार में उतारा गया था, तब इसने बाजार में धूम मचा दी थी | सोनी वॉकमैन में आप गाने सुन सकते थे | सोनी के इस गैज़ेट में आपको एक कमाल की इंजीनियरिंग देखने को मिलेगी | क्योंकि इसे उस समय के बेहतरीन इंजीनियर जो सोनी कंपनी में काम करते थे, उनके द्वारा बनाया गया था | इसे बनाने के पीछे की वजह जरूरत थी | क्योंकि सोनी कंपनी के को फाउंडर मसारू ईबुका (Masaru Ibuka) को जब जापान से अमेरिका जाना होता था , तब वह लंबी फ्लाइट में बेहद बोर हो जाया करते थे | और इससे परेशान होकर उन्होंने अपनी कंपनी के बेहतरीन इंजीनियरों को इकट्ठा करके एक टीम बनाई | और उन्हें एक इस तरह का गैजेट बनाने की बात कही जिससे वे लंबी फ्लाइटओं में बोर ना हो | कुछ समय बाद 1978 में यह गैजेट बन के तैयार हो गया| जिसे कंपनी के को फाउंडर मसारू ईबुका (Masaru Ibuka) का को गिफ्ट के तौर पर दिया गया | हम जानते हैं सोनी के वॉकमैन से जुड़ी हुई कुछ महत्वपूर्ण बातें |

Unknown Facts about Sony Walkman in Hindi :


when-was-the-sony-walkman-invented-facts-whatyouremind
Sony Walkman TPS-L2, Source: WikiMedia Commons

  • सोनी वॉकमैन का आविष्कार किए हुए 35 साल हो गए हैं  | इसका आविष्कार 1978 में किया गया था |  जब इसका आविष्कार किया गया था, तो इसे आम लोगों के लिए नहीं बनाया गया |

  • सोनी वॉकमैन को सोनी कंपनी के को-फाउंडर मसारू ईबुका (Masaru Ibuka)  के लिए बनाया गया था |  वह इसका प्रयोग लंबी फ्लाइट के दौरान करते थे | खास कर जब उन्हें जापान से अमेरिका जाना होता था |

  • सोनी के वॉकमैन का नाम "वॉकमैन" इसलिए पड़ा क्योंकि इससे पहले सोनी द्वारा ही सोनी प्रेसमैन नाम का एक टेप रिकॉर्डर बनाया गया था  | जोकि जनरलिस्ट और मीडिया के लोगों द्वारा काम में लिया जाता था | प्रेसमैन एक अच्छे दर्जे का टेप रिकॉर्डर था , जो की इंटरव्यू के दौरान आवाजें रिकॉर्ड करता था | आपने इसे कई हिंदी फिल्मोके सस्पेंस सीन में ज़रूर देखा होगा |

  • जब वॉकमैन सबसे पहली बार सोनी कंपनी द्वारा जापान के बाजारों में उतारा गया |  तो इसकी मात्र 3000 यूनिट बिक सके  |  कम बिक्री से निजात पाने के लिए सोनी कंपनी ने एक अनोखा तरीका निकाला | उन्होंने अपने प्रोडक्ट को मार्किट में प्रोमोट करना शुरू किया | जिसमे उनके पास काम करने वालों ने अहम भूमिका निभाई |


  • सोनी में काम करने वाले घर जाते समय वॉकमेन में गाने सुनते हुए घर जाते | और  साथ जा रहे लोगो को हैडफ़ोन की मदद से सुनाते | जिससे उन्हें भी इसका शानदार अनुभव मिलता | ये प्रोडक्ट की मार्केटिंग करने का एक अच्छा तरीका है | और आज भी इस्तेमाल किया जाया है |

  • 1980 में ,अपने आविष्कार के ठीक 2 साल बाद इसे अलग-अलग नामों से दूसरे देशों के बाजारों में उतारा गया | अमेरिका में इसे "साउंड अबाउट" (soundAbout)  के नाम से जाना जाता है , वहीं स्वीडन में इसको "फ्रीस्टाइल" (Freestyle)  का नाम दिया गया |

  • वॉकमैन के बाजार में उतरने से सोनी को एक नई पहचान मिली |  वह घर घर तक पहुंच गया  | वॉकमैन की शुरुआती बिक्री में अकेला जापान में ही सोनी 50000 वॉकमैन हर महीने  बेच देता था | 

  • उस समय सोनी वॉकमैन के टक्कर का कोई और नहीं था  | पर देखते ही देखते मार्केट में कुछ नई कंपनियों ने कदम रखा |  जिसमें तोशीबा(Toshiba)  ने वल्की(Walky)  और आइवा (Aiwa) कंपनी ने कैसेटबॉय (कैसेटबॉय) नाम से पोर्टेबल म्यूजिक प्लेयर बाजार में आए |

  • वॉकमैन की लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही थी | जिसे भुनाने के लिए सोनी ने "वॉकमैन प्रो" , जो कि वॉकमैन का ही एक अगला मॉडल था , बाजार में उतारा  | इसमें डॉल्बी नॉइस रिडक्शन  फीचर दिया गया  | जिससे इसे प्रोफेशनल इंस्ट्रूमेंट के साथ इस्तेमाल करना आसान हो गया |
    when-was-the-sony-walkman-invented-facts-whatyouremind
    Sony Popular Products  (Picture by Marc Zimmermann) 
  • 1986 में ऑक्सफोर्ड   डिक्शनरी ने भी अपनी इंग्लिश डिक्शनरी में "वॉकमैन" शब्द को जोड़ा | यह सोनी कंपनी के लिए एक सम्मान की बात है |

  • 1984 में सोनी कंपनी ने वॉकमैन को अपग्रेड किया और पोर्टेबल सीडी प्लेयर बाजार में उतारा | इसका नाम डिस्कमैन रखा गया  | धीरे-धीरे वॉकमैन की मार्केट मैं डिस्कमैन ने अपनी जगह बना ली | 

  • सोनी कंपनी द्वारा बनाया गया वॉकमैन आज भी कई देशों में बिकता है |  खासकर उन देशों में जो कि अभी विकसित नहीं हुए हैं |



Sony Walkman to a luxuary product : 


  • पर ऐसा नहीं है कि सोनी वॉकमैन को कंपनी द्वारा भुलाया  जा चुका है  | कंपनी ने इसके कुछ लग्जरी मॉडल निकाले हैं  | जिसकी कीमत 1200  डॉलर के करीब रखी गई है | इनमे से कुछ खास Sony NW-A35 , Sony NW-A45 ,Sony NW-A46 है जो आज भी ऑनलाइन बिक रहे है |

  • सोनी वॉकमैन का यह लग्जरी मॉडल एंड्रॉयड  ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलता है |  जिसमें 128GB की स्टोरेज , ब्लूटूथ और टचस्क्रीन जैसे फीचर मिलते हैं  | इसकी साउंड क्वालिटी काफी कमाल की है  | और यह ऑडिबल फाइल को विंक्ली  जैसे फॉर्मेट में स्टोर करता है |

  • आजकल वॉकमैन की गिनती कम हो गई है  | क्योंकि ज्यादातर लोग एप्पल के आईपॉड  और मोबाइल फोन से ही म्यूजिक सुनते हैं  | पर आपको जानकर हैरानी होगी कि सोनी ने अपने वॉकमैन की मैन्युफैक्चरिंग 2010 में बंद करी | तब तक यह बाज़ारो में बेचे जा रहे थे |

  • 1990 के अंत तक आते सोनी ने वॉकमैन के कुल 80 अलग मॉडल वेरिएंट को बाजार में उतार चुके थे |  अब कुल 100 से भी ऊपर सोनी वॉकमैन के वेरिएंट बाजार में मौजूद है |  जिसमें सोलर पावर, वॉटर रेजिस्टेंट, डबल टेबलेट, रिमोट कंट्रोल और  डुएल हेडफोन जैक जैसे वेरिएंट लोगों के बीच लोकप्रिय है | 



सोनी वॉकमैन को खासकर उस वक्त के लिए बाजार में उतारा गया था ,जो गाने सुनना पसंद करता है | वह समय के नौजवानों के हाथ में सोनी वॉकमैन एक स्टाइल आइकन की तरह माना जाता था | यह देखने में तो एक छोटा सा गैजेट ही था, जैसे आप अपने मनोरंजन के लिए कहीं भी ले जा सकते थे | सोनी वॉकमैन के डिजाइन में सोनी ने कई बार बदलाव किए | कुछ बदलाव लोगों को पसंद आए और कुछ नहीं भी आए | पर अपनी अच्छी क्वालिटी के कारण यह बाजार में हमेशा बिकता रहा | इसे लोगों ने बहुत पसंद किया, खासकर इस में दिए जाने वाले हेडफोन को | क्योंकि मैं अच्छी साउंड क्वालिटी के साथ साथ कानों को सुरक्षित भी रखते थे | यह उस समय के बहुत प्रसिद्ध गानों को रिकॉर्ड करने के लिए भी इस्तेमाल में लाया जाने लगा था | आज करीब 40 साल बाद भी सोनी वॉकमैन का जादू काम नहीं हुआ | लग्जरी मॉडल को आज भी खरीदा जाता है | सोनी वॉकमैन सिर्फ मसारू ईबुका (Masaru Ibuka) की ही देन है | ठीक ही कहा है "आवश्यकता आविष्कार की जननी है" | और यह बात आपको इस पूरे आर्टिकल को पढ़कर पता लगी होगी | 


अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें | 


About Author:

I am Kumar Gaurav Singh, author of WhatYouRemind blog. I have 2 years of experience in SEO and Copywriting. I worked as a content writer too. I helps people in blogging, SEO, digital marketing and web site development.


Let's Get Connected: Twitter | Quora

Powered by Blogger.