Double VPN in Hindi | WhatYouRemind


(whatyouremind) VPN क्या होता है और VPN कैसे काम करता है ? इस के बारे में तो आप जानते होंगे | अगर नहीं जानते तो ज़रूर पढ़े | आज मैं आपको Double VPN के बारे में बताऊंगा | Double VPN  की टेक्नोलॉजी को कभी तक काफी कम  इस्तेमाल किया जा रहा है | कुछ विदेशी VPN कंपनी ही Double VPN जैसे VPN सिस्टम को इस्तेमाल कर रही है | जिन लोगो ने VPN को उसे किया होगा वो ये जानते है की इसके क्या फ़ायदे  है | VPN को वो लोग इस्तेमाल करते है जो इंटरनेट पर अपनी प्राइवेसी के बारे में जागरुक होते है |

double-vpn-in-hindi
Double VPN in HIndi


असल में होता क्या है की विज्ञापन कंपनियां आपको हर समय ट्रैक करती है | आप जो भी अपने फ़ोन या कंप्यूटर में करते है , वे उसे ट्रैक कर आपको विज्ञापन दिखाती  है | और काफी पैसे कमाती है | अब आप समझ ही गए होंगे की फेसबुक, गूगल और इस तरह के सोशल नेटवर्किंग साइट पैसे कैसे कमाती है | वह पर लाखों की गिनती में कंपनियां है जो अपने प्रोडक्ट को लोगों  के आगे दिखाना चाहती है | एक सर्वे में यह पाया गया है की फेसबुक पर विज्ञापन दिखने वालो की संख्या 2 मिलियन ( 20 लाख ) है | इस तरह आपके डाटा को जमा करके आपसे ही पैसे बनाये जा रहे है |

अब सवाल आता  है इससे बचे कैसे ?  और जवाब है VPN का इस्तेमाल करके | VPN आपकी प्राइवेसी को ध्यान में रख कर  बनाया गया है | VPN को इस्तेमाल करने  से आपकी इंटरनेट पर सर्च की गयी जानकारी को ISP से साँझा नहीं किया जाता | VPN के इस्तेमाल से आप डाटा एन्क्रिप्ट (encrypt ) हो जाता है और ISP उसे नहीं तर्कक कर पाती | अगर आप इसके बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट पर जा कर इसे पढ़ सकते है |

Whatyouremind के इस आर्टिकल में मैं आपको Double VPN के बारे में बताने जा रहा हूँ | इस आर्टिकल में मैं आपको Double VPN क्या होता है ? Double VPN को इस्तेमाल करने के क्या फायदे है ? और इस से जुड़ी कुछ अच्छी जानकारी बताऊंगा |


Double VPN क्या होता है ? ( What is Double VPN ? ) 

जिस तरह VPN को इस्तेमाल करने से ISP ( जो आपको इंटरनेट की सर्विस देता है ) आपकी सर्च हिस्ट्री , लोकेशन , IP एड्रेस और डिवाइस डिटेल को नहीं जान पता | ठीक उसी तरह  Double VPN भी काम करता है | 

Double VPN में बस एक चीज अलग है | वो ये की जैसे VPN में आपका सर्च ट्रैफिक 1 सर्वर से गुजरता है | Double VPN में 2 सर्वर से होकर काम करता है |

कंप्यूटर > सर्वर 1 > सर्वर 2 > इंटरनेट 

Double VPN में सर्च ट्रैफिक को दो बार एन्क्रिप्ट करता है | जिससे आपको दोगुनी सिक्योरिटी और प्राइवेसी मिलती है | 

double-vpn-in-hindi-whatyouremind
How Double VPN Work, via TheSafty 


Double VPN में सबसे पहले सर्वर पर जाने वाला ट्रैफिक पहली बार AES -256 एन्क्रिप्ट में एनकोड होता है  फिर इस ट्रैफिक को दूसरे सर्वर पर भेजा जाता है | वहाँ भेजने से पहले फिर से एनकोड किया जाता है | यानी की 2 बार एन्क्रिप्शन |   जिससे की डाटा 2 बार एनकोड होता है |

Double VPN में जैसे 2 बार सर्वर से ट्रैफिक/डाटा को गुजारा जाता है | 2 की जगह अगर 3 सर्वर होंगे तोह उसे 'Triple' VPN और 4 सर्वर होंगे तो 'Quad VPN' कहते है |

नोट : Double VPN में सिक्योरिटी और मजबूत होने के 2 कारण है | 



1 .  Double VPN में 2 बार एन्क्रिप्शन होती है | इसलिए ISP अगर आपका डाटा/ट्रैफिक ट्रैक भी करता  है तो एन्क्रिप्शन की वजह वो डाटा ISP के किसी काम का नहीं होगा  |

2.  Double VPN  में  सिक्योरिटी का सतर अछा होने का एक कारण ये भी है की वो TCP और UDP (नेटवर्क लेयर ) पर काम करता है |



Double VPN के फ़ायदे ( Advantages of Double VPN ) : 


आपका ISP  VPN सर्वर से पहला कनेक्शन देखेगा, लेकिन इंटरनेट पर आपका  IP address नहीं पता होगा, क्योंकि इंटरनेट कनेक्शन दूसरे VPN सर्वर के साथ किया जाता है |
दूसरा VPN सर्वर आपके असली IP address को नहीं जान पाएगा, क्योंकि यह पहले VPN सर्वर से छिपा होगा। इससे आपका नाम गुम हो जाता है |
आप अलग-अलग महाद्वीपों (जैसे पनामा, मलेशिया या कोरिया) में स्थित VPN सर्वर के विभिन्न भौगोलिक स्थानों का उपयोग कर सकते हैं।

आपका IP address इस प्रक्रिया के प्रत्येक चरण में बदलता है, जो आपकी अनामिकता (anonymity)  का एक लेयरिंग बनाता है।


Double VPN को कब इस्तेमाल करें ? (When to use Double VPN? ) :

वैसे तो VPN का इस्तेमाल करना ज़रूरी है | क्युकी ये आपके डाटा को एनकोड कर आपकी सिक्योरिटी और  प्राइवेसी को अच्छा करता है | ऐसे 2 हालत में आप Double VPN का इस्तेमाल कर  सकते है | 

1. अगर आप पब्लिक wifi का इस्तेमाल करते है तो ये ज़रूरी हो जाता है की आप VPN का इस्तेमाल करें | क्यूकी पब्लिक wifi को इस्तेमाल करना कभी भी सिक्योर नहीं होता | और आपकी लाग फाइल्स को देख कर ये पता लगाया जा सकता है की आपने किस लिए पब्लिक WIFI यूज़  किया | ऐसे हालत में आपको VPN इस्तेमाल करना चाहिए | 

2. अगर आप कोई ऐसे सर्विस या वेबसाइट का इस्तेमाल कर रहे है जो आपके देश में बैन है तो आप Double VPN का इस्तेमाल कर सकते है | क्युकी ज्यादातर VPN सर्वर बाहर  के देशों  में ही होते है | और वहाँ ये सर्विस /वेबसाइट 


Conclusion : 

Double VPN  के बारे में अब आप सब कुछ जानते है | नयी सर्विस होने के वजह से ये अभी काफी कम  देशों में उपलब्ध  है | अगर आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे तो गिनती की 10 कंपनियां है जो Double VPN  की सर्विस देती है | अगर आप Double VPN चाहते है तो NordVPN  को देख सकते है | ये इस सर्विस में काफी समय से है | और इनके सर्वर 100 से ऊपर देशों में है | आप और भी VPN सर्विस को देख सकते है | 

उम्मीद करता हूँ की आपको Double VPN के बारे में शुरूआती जानकारी मिल गयी होगी | आपको जानकारी अच्छी लगी तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करके मेरी मेहनत को सफल बना सकते है | शेयर बटन स्क्रीन के बाए में है | आप बेल्ल नोटिफिकेशन आन  कर  सकते है |  इससे नेक्स्ट आर्टिकल की नोटिफिकेशन आपको फ़ोन पर ही मिल जाएगी | 

About Author:

I am Kumar Gaurav Singh, author of WhatYouRemind blog.I have 4 years of experience in SEO and Copywriting. I worked as a content writer too. I am helping people in blogging, SEO, digital marketing and CMS like WordPress, Blogger and SquareSpace.


Let's Get Connected: Twitter | Quora | Instagram