Artificial intelligence in hindi | WhatYouRemind


Artificial intelligence का मतलब है की मशीन को आम लोगो की तरह सोचने की ताकत देता | ताकि वे उन्हें दिए गए कामों को इंसानों  की तरह सोच कर पूरा कर सकें | इस के बारे में खोज आज से नहीं बल्कि 1950 से ही शुरू हो  गयी थी | सबसे महत्वपूर्ण बात तोह यह है की आज जिस Artificial intelligence को हम जानते है, वह 50 सालों  का सफर करके हमारे सामने है | फिर भी ये तकनीक हम लोगों  के लिए नयी है | 

हाल ही में बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों ने इसको अपने लिए इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है | जैसा की गूगल ने Artificial intelligence को अपने Google Voice Assistance, Google Keyboard, YouTube और Google Search Engine में इस्तेमाल करा है | जिससे की सर्विस और कस्टमर एक्सपीरियंस अच्छा हो गया है | artificial intelligence in hindi में जाना चाहते है तोह इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें |

Amazon भी इसे अपने Alexa और Amazon Market Store में इस्तेमाल कर रहा है |  WhatYouRemind भी आपको आज Artificial intelligence के बारे में कुछ विशेष जानकारी दे रहा है | आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ के इसके बारे में अच्छे से जान सकते है |  

What is Artificial intelligence in hindi

artificial-intelligence-in-hindi
Artificial Intelligence in hindi 

Artificial Intelligence  के बारे में हाल ही में बहुत से शोध सामने आए हैं पर क्या आप जानते हैं कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की शुरुआत सन 1950 में ही हो गई थी | Alan Turning को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का पिता माना जाता है क्योंकि वह पहले इंसान थे जिन्होंने एक टेस्ट तैयार किया था जिससे कि मशीनों को नेचुरल लैंग्वेज को समझने में आसानी हो सके |

क्या आप जानते हैं की वीडियो गेम में भी Artificial Intelligence  की एक तकनीक को इस्तेमाल किया जाता है, जिसका नाम है एक्सपर्ट सिस्टम | यह तकनीक मनुष्य के व्यवहार को नकल कर सकती है | इस तकनीक के आधार पर मशीन किसी भी इंसान के व्यवहार या हाव भाव की नकल करने में सक्षम हो जाती हैं |

Project on  Artificial intelligence: 

Artificial Intelligence  के सिद्धांतों को इस्तेमाल करके खुद से चलने वाली कार को बनाया जा रहा है यह योजना दो-तीन सालों में पुरी होने वाली है | Google और Uber मिलकर अपने आप चलने वाली कार बनाने की तैयारी कर रहे हैं | इसे 2019 के अंत तक पूरा कर लेने की संभावनाएं हैं | देखा जाए तो यह कारें जीपीएस और इंटरनेट से जुड़ी होंगी, और बिना ड्राइवर के इस्तेमाल में लाई जाएंगी |

जैसा कि आप जानते हैं Artificial Intelligence  को इस्तेमाल करके बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियां अपनी ओर से दी जाने वाली सर्विस इसको सुधारना चाहती है | और यही कारण है कि फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स ने भी इसे अपने प्लेटफॉर्म पर इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है |

वह Artificial intelligence की इस तकनीक को कस्टमर एक्सपीरियंस सुधारने के लिए, फेक अकाउंट को डिलीट करने के लिए, और विज्ञापनों को ज्यादा से ज्यादा यूजेस तक पहुंचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं |

अगर ऐसे में गूगल का नाम ना लिया जाए तो गलत होगा | क्या आपने सर्च इंजन पर कभी कुछ की वर्ड टाइप करके देखा है, खुद से पूरे हो जाने वाले कीवर्ड और नीचे आने वाले ऑप्शन Artificial Intelligence  को ही इस्तेमाल करके तैयार किया गया है |

जिसमें की यूजर द्वारा की गई गतिविधियों और खोजी गई चीजों पर खास नजर रखी जाती है | इससे फायदा यह होता है कि गूगल आपके बारे में यह जान जाता है कि आप क्या ढूंढ रहे हैं |

क्या आप जानते हैं कि Artificial Intelligence  को सबसे पहली बार इस्तेमाल में कब लाया गया था? तो इसे इस्तेमाल में लाने वाली कंपनी का नाम IBM है, जिसने Watson नाम का सुपर कंप्यूटर बनाया था |

इस कंप्यूटर की खासियत यह थी कि यह आम भाषा में दी जाने वाली प्रश्नों को भी समझ सकता था, और उसके मुताबिक सही जवाब लोगों को दे सकता था | जो कि अब गूगल भी अपने Google Voice Assistant के साथ कर रहा है |

मशीन लर्निंग भी Artificial Intelligence  का ही 1 मूल रूप है , जिसमें की मशीनों को इंसान की तरह सोचना और काम करना सिखाया जाता है | और जिस तरह से मशीनें आम भाषाओं को समझने में कारगर साबित हो रही है, वह दिन दूर नहीं कि टेलिफोन पर होने वाली बातों का जवाब मशीनें दें | 

2020 के अंत तक Artificial Intelligence  की मदद से पर्सनल असिस्टेंट को बदल दिया जाएगा एक डिजिटल असिस्टेंट में |

जिसकी शुरुआत 2018 में ही हो गई थी, जब सैमसंग में BIXBY, ऐमेज़ॉन ने ALEXA, और माइक्रोसॉफ्ट ने अपना Cortana डिजिटल पर्सनल असिस्टेंट को अपने हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के साथ बेचना शुरू किया था |

Conclusion: 

देख जाये तो Artificial intelligence का महत्व आने वाले समय में और ज्यादा हो गया है | क्युकी एहि वह टेक्नोलॉजी है जो मानव सभ्यता को एक नए आयाम पर पहुंचेगी | 

Artificial intelligence को  आईटी कंपनिया शुरू कर चुकी है | गूगल , माइक्रोसॉफ्ट , सैमसंग तो महज कुछ चुनिंदा नाम है | भारत में Artificial intelligence की प्रगति दर को 7 % आंका गया है | जो की 2025 में बढ़ कर 11% हो जाएगी | 

 आने वाले समय में Artificial intelligence के बाजार में और तेज़ी आएगी | हम सभी को इसके लिए तैआर रहना चाहिए | 

अगर आपको आर्टिकल में दी गयी जानकारी अच्छी लगी तो आप इस अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे और हमारा हौसला अफ़ज़ाई करें | 



About Author:

I am Kumar Gaurav Singh, author of WhatYouRemind blog.I have 4 years of experience in SEO and Copywriting. I worked as a content writer too. I am helping people in blogging, SEO, digital marketing and CMS like WordPress, Blogger and SquareSpace.


Let's Get Connected: Twitter | Quora | Instagram