Education Lean लेने से पहले ये ज़रूर पढ़े | ये फैक्टर आपका फैसला बदल सकते है |

इसे पढ़ने से पहले, आप शांत माहौल में बैठ जाये | क्युकी आपका ठन्डे दिमाग से सोचना ज़रूरी है | जरा सोचिये, जब आप पैदा हुए थे, छोटे थे और  ठीक से चल भी न पा रहे हो | तब आपको माँ-बाप आपके पैरों में बेड़ियाँ डाल देते, तो आप कही जा पाते?

सवाल थोड़ा अजीब लगेगा | क्युकी एजुकेशन लोन,  ऐसी बेड़ियाँ ही तो है | आपको पता है 70% एजुकेशन लोन सिर्फ जनरल केटेगरी के लोग ही लेते है | क्युकी SC, ST और OBC केटेगरी के लोगो को कोटा में कॉलेज सीट मिल जाती है | 

यदि नहीं भी मिलती तो हमारे देश का सिस्टम कितना खराब है की सरकार स्कॉलरशिप देकर ऐसे लोगो को पढ़ती है, जिनके मार्क सही नहीं आये होते | 

education-loan-should-you-take-or-not-hindi


ऐसे में 2 नुकसान होते है | एक काबिल व्यक्ति जो अच्छी एजुकेशन पाने के लायक था, वह पैसों की कमी की वजह से पढ़ नहीं पता | दूसरा, देश को वो टैलेंट नहीं मिलता, जिसकी उन्हें ज़रूरत है | यदि आप समय के धरातल पर इसे देखेंगे, तो कही न कही आप यह खुद से होता हुआ महसूस करेंगे | 

पर अब सवाल  यह है की मैं  एजुकेशन लोन लेने के लिए आपको इतना सोच में क्यों डाल रहा हूँ?  

( नोट: देखिये, मैं आपको कुछ बेच नहीं रहा हूँ, इसलिए जो कुछ भी लिखूंगा, सच लिखूंगा | मेरी बातें मेरा अपना मत है, मानना या ना मानना, ये आपके ऊपर है | )


जैसे की मैंने एजुकेशन लोन की तुलना बेड़ियों से की है, जानते है क्यों? 


क्युकी आप एजुकेशन लोन में वह पैसे खरच करने जा रहे है, जो आपने कमाए ही नहीं | और तो और क्या आप ये पैसे भविष्य में चुका पाएंगे, यह भी निश्चित नहीं है | 

आपको नौकरी मिलेगी या नहीं, आपकी सैलरी कितनी होगी और आप हर महीने कितना बचा पाएंगे | ऐसे बहुत से फैक्टर है, जो आपको एजुकेशन लोन लेने से पहले सोचना चाहिए | 

मैंने आपको यह 3 के बारे में बतऊँगा, जिसके बारें में ज़्यादा बात नहीं होती | 


क्या एजुकेशन लोन लेना आपके लिए सही है या नहीं? जानिए 

1. औसतन सैलरी कितनी मिलेगी? 

पहली गलती जो अक्सर स्टूडेंट एजुकेशन लोन लेने से पहले करते है की वे कॉलेज का प्लेसमेंट डाटा चेक नहीं करते | देखिये यूनिवर्सिटी की चकाचौंद लुभाती ज़रूर है, मगर हमेशा अच्छी नही होती | 

ज़्यादातर कॉलेज अपने प्रॉस्पेक्ट में यह दिखाते है की "सबसे ज्यादा पैकेज कितना और किसको मिला है |" पर इस बात को छुपाते है की उनका औसतन सैलरी पैकेज कितना है?  

आपको एजुकेशन लोन लेने से पहले कॉलेज का पिछले 3-5 साल तक का इन-कैंपस प्लेसमेंट पैकेज ज़रूर देखना चाहिए | इससे आप यह अंदाज़ा लगा सकते है,  की यदि आपकी प्लेसमेंट हो जाती है तो आप अनुमानित सैलरी के हिसाब से कितना जल्दी अपना एजुकेशन लोन चुका सकते है | 


2. opportunity cost: कोनसा डिसिशन सही रहेगा?

महज औसतन सैलरी पैकेज देख कर एजुकेशन लोन लेना ठीक बात नहीं | आपको इस बात का भी ध्यान रखना है की समय हाथों से निकला जा रहा है | 

मान  लीजिये, आपने अपनी ज़िंदगी के 5 साल और पढाई करते निकाल दिए | यदि आप इन 5 सालों  में कही नौकरी कर रहे होते तो 10,000 प्रति माह सैलरी में भी आप करीब-करीब 6 लाख रूपये कमा लेते | 

opportunity cost की एहमियत सफल लोग भी बताते है | तभी तो वो अपना पैसा सही तरीके से इन्वेस्ट करते है, अपना समय बचाने के लिए | बाद में ये अपने बचे हुए समय को asset बनाने में इस्तेमाल कर लेते है | 

एजुकेशन लोन लेकर पढाई करना, 5 साल Opportunity cost देने पर आपको क्या मिला, मतलब आपका return ऑफ़ इन्वेस्ट कितना मिला, इस बात का पहले से अंदाज़ा लगाना बेहद ज़रूरी है | 


3. क्या Interest rates कम होना loan लेने के लिए सही रहेगा?

एजुकेशन लोन में यह सबसे ज़रूरी चीज है | औसत एजुकेशन लोन ब्याज दर 9.90% से  15% तक होती है | आप paisabazar का यह डिटेल डाटा देखिये |  यदि आप 15 सालों के लिए भी एजुकेशन लोन लेते है, तो आपको लिए गए अमाउंट का डबल चुकाना पड़ेगा | जो की कही ज़्यादा है | 

एजुकेशन लोन का रिटर्न अमाउंट उतना ही है जितना की किसी म्युचल फण्ड का होता है | और यही नहीं, आपको hidden charges, inflation rates, taxes,  और कई additional खरचों से भी इन 15 सालों  में गुज़ारना पड़ेगा | अंत एजुकेशन लोन काफी महंगा पड़ सकता है | 


Editor's Pick: Archives


कुछ अंतिम शब्द: 

ये पोस्ट इस लिए लिखा गया था क्युकी मैं आपको एजुकेशन लोन के पीछे की कहानी बताना चाहता हूँ | जो की अक्सर  एजुकेशन लोन लोन लेने वाले और बैंक नहीं बताते है | कुछ बातें आपको नहीं पता होगी | 

मैंने इस आर्टिकल में आपको ये जानकारी देने की कोशिश की है | और साथ में आपको जागरूक करना चाहता हूँ | 

यदि आप इस तरह के "सामान्य जिंदगी से अलग" जानकरी को जानना, पढ़ना और सरल भाषा से समझना चाहते है तो आपको हमारा साप्तहिक newsletter ज़रूर  subscribe करना  चाहिए | 


क्या आपको आर्टिकल पसंद आया?


WhatYouRemind.in का एक मात्र लक्ष्य है हिंदी पाठकों के लिए सरल, व्यवस्थित और सही जानकारी मुहैया कराना | ब्लॉग को जीवित रखने और हमारे इस सफर में हमारा साथ देने के लिए "डोनेशन" दे | डोनेशन लिंक निचे है | 🙏

Donate Monthly OR Donate Yearly



About Founder & Author:

मेरा नाम कुमार गौरव सिंह (@kg_singh99)है | मैं एक SEO Analyst/Content Writer हूँ | मैं इस फील्ड में पिछले 3 साल से काम कर रहा हूँ | whatyouremind.in एक ads-free हिंदी ब्लॉग है, जहाँ पर जानकारी को व्यस्थित रूप से पाठकों के लिए पब्लिश किया जाता है | आप डोनेशन देकर इस ब्लॉग को जीवंत रख सकते है | Donate Now


Let's Follow Me On 👉 Instagram | LinkedIn